सारंगढ़-बिलाईगढ़

सारंगढ़: आदिवासी युवक से नौकरी के नाम पर 2 लाख 21 हज़ार की ठगी, शातिर ठग दर्जनों दुकानदारों को भी लगा चुका है चूना, युवक ने थाने मे की लिखित मे शिकायत….

सारंगढ़: सारंगढ़ मे 28 वर्षीय युवक से नौकरी के नाम पर ठगी की शिकायत की जानकारी प्राप्त हुवी है, जिसको नौकरी लगाने के नाम पर 2 लाख 21 हज़ार की ठगी की गयी है, पीड़ित युवक ने कोसीर थाने मे शिकायत की है।

थाने मे लिखित शिकायत के अनुसार

पीड़ित युवक राजकुमार सिदार पिता स्व0 बाबूलाल सिदार उम्र 28 वर्ष निवासी ग्राम पो0 लेन्च्रा छोटे थाना कोसीर तहसील सारंगढ़ जिला सारंगढ़-बिलाईगढ़ (80ग0) के अनुसार छत्तीसगढ़ जिला पुलिस बल आरक्षक भर्ती परीक्षा वर्ष 2017 हेतु आवेदन किया था, जिसका लिखित परीक्षा वर्ष 2018 में हुआ है।
लिखित परीक्षा मे शामिल होने की जानकारी प्राप्त होने पर खीकराम कौशिक पिता बड़कूं कौशिक उम्र लगभग 45 वर्ष निवासी ग्राम बोरिदा पो0 परसकोल थाना कोसीर जिला सारंगढ़-बिलाइंगढ़ (छ0ग0) द्वारा कुछ लोगों के समक्ष अपने आपको छत्तीसगढ़ शारान के मंत्री श्री धरमलाल कौशिक का रिश्तेदार बताया एवं कई लोगों की सरकारी नौकरी लगा चुका हूं कहते हुये पीड़ित युवक से 5,00,000,(पांच लाख रूपये) में आरक्षक पद पर भी नौकरी लगा देने की बात कहा एवं नौकरी लगने के पूर्व आधा रकम व नौकरी लगने के पश्चात्‌ आधा रकम देने की बात कही गई, जिसे सुनकर युवक राजकुमार सिदार अपने बेरोजगारी को देखते हुये नौकरी लग जाने से सभी परेशानी दूर हो जावेगी इस आश से खीकराम कौशिक के विश्वास में आकर पैसा देने हेतु तैयार हो गया और खीकराम कौशिक को बताया कि मैं भी आरक्षक पद हेतु आवेदन किया हूं किन्तु मेरा लिखित परीक्षा सही नहीं गया है बोला, जिस पर खीकराम कौशिक मेरा सब सेटिंग है, मैं निश्चित रूप से तुम्हारा नौकरी लगवा दूंगा कहा तब युवक ने दिनांक 05,/07 / 2018 को ग्राम लेन्ध्रा छोटे थाना सारंगढ़ में मु0 2,21,000,//(दो लाख इक्कीस हजार रूपये) दो गवाह समीप अनंत पिता सियाराम अनंत निवासी ग्राम रींवापार थाना कोसीर एवं चंद्रकांत साहू पिता राजेश कुमार साहू निवासी ग्राम पहन्दा थाना केड़ार के समक्ष रुपये दिया।

चुंकि आरक्षक पद की नियुक्ति में दो वर्ष हेतु रोक लग गया एवं वर्ष 2021 में पुनः फिजिकल हुआ किन्तु परीक्षा का परिणाम आने के उपरांत युवक की नौकरी नहीं लगने पर युवक राजकुमार सिदार द्वारा खीकराम कौशिक से संपर्क किया गया तो उसके द्वारा कुछ दिन बाद तुम्हारा नौकरी लग जावेगा कहते हुये पुन: आश्वासन दिया गया।

लेकिन एक वर्ष पश्चात्‌ भी युवक की नौकरी नहीं लगी जिस पर राजकुमार को स्वयं के साथ ठगी होने का आभास हुआ तब युवक द्वारा खीकराम कौशिक को रकम वापस करने हेतु बोला गया जिस पर वह कुल चार किश्तों में कुल 47,000/(सैंतालीस हजार रूपये) वापस किया एवं शेष बचत रकम मु0 1,74,.000,//(एक लाख चौहत्तर हजार रूपये) को वापस करने में आना कानी कर रहा है। पैसा मांगने पर खीकराम कौशिक द्वारा तुम्हें जितना पैसा वापस करना था कर दिया अब बचत रकम वापस नहीं करूंगा तुम्हें जो करना है कर लेना, मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता, मेरी पहुंच ऊपर तक है बोला जा रहा है! खीकराम कौशिक द्वारा साथ-साथ यह भी कहा गया की यदि मेरे विरूद्ध किसी प्रकार से कोई शिकायत करोगे तो इसका अंजाम ठीक नहीं होगा, तुम्हें देख लूंगा, जानमाल से हाथ धोना पड़ेगा कहकर धमकी दिया जा रहा है! आदिवासी युवक राजकुमार सिदार ने शिकायत मे कहा है की पैसा नहीं लौटाने उपर से जान से मारने की धमकी वाली बात सुनकर मानसिक, शारीरिक व आर्थिक रूप से प्रताड़ित होना पड़ रहा है। ठगी का शिकार हुवे युवक ने थाना प्रभारी से प्रार्थना किया है की खीकराम कौशिक द्वारा उसके साथ ठगी करने के संबंध में रिपोर्ट दर्ज कर उचित कार्यवाही करें ताकि पीड़ित आदिवासी युवक के हितों की रक्षा हो सके एवं दी गई रकम वापस मिल सके।

क्या कहते हैँ कोसीर थाना प्रभारी –

युवक द्वारा नौकरी के नाम से ठगी की शिकायत प्राप्त हुई है, उचित जांच कर दोषियों के उपर कार्रवाई की जाएगी।

नोट – युवक के शिकायत के पश्चात बहुत सारे दुकानदार भी खीकराम कौशिक द्वारा ठगी की बात की पुस्टि किए हैँ जिनका प्रकाशन अगले अंको मे किया जाएगा।

Kailash Nayak

(डिप्लोमा इन जर्नलिज्म एंड मॉस कम्यूनिकेशन)

Leave a Reply

Your email address will not be published.