डायल 112 के स्टॉफ को दी गई स्नैक रेस्क्यू की ट्रेनिंग,सापों के प्रकार एवं उनके काटने पर बताये गये बचाव के तरीके …

Rajesh Kumar Mishra
2 Min Read
IMG-20230125-WA0027
IMG-20230125-WA0030
IMG-20230125-WA0031
IMG-20230125-WA0028
IMG-20230125-WA0025
IMG-20230125-WA0029
IMG-20230125-WA0024
IMG-20230125-WA0026

कोरबा NOW HINDUSTAN  रक्षित केंद्र कोरबा में जिले में कार्यरत डायल 112 के चालक एवं पुलिस स्टॉफ को स्नैक रेस्क्यू की ट्रेनिंग दी गई। इस दौरान ट्रेनर जितेंद्र सारथी ने बताया कि कोई भी साँप खुद से नहीं बल्कि अपने बचाव में किसी व्यक्ति पर हमला करता है। इसलिए जब किसी के घर मे साँप निकले तो उसे लाठी डंडे से मारकर भगाने का प्रयास नहीं करना चाहिए। बल्कि इसकी सूचना स्नेक रेस्क्यू टीम या डायल 112 टीम को दें।

मालूम हो कि वनांचल होने के कारण कोरबा जिले में घरों में सांप निकलते रहता है। डायल 112 के जरिये पुलिस को इस संबंध में कॉल्स आते हैं। इसी को ध्यान में रखकर जिले के पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह ने डायल 112 के स्टाफ के लिए स्नेक रेस्क्यू ट्रेनिंग का आयोजन किया। ट्रेनिंग में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा भी शामिल हुए। इस मौके पर डायल112 के स्टाफ को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि डायल 112 की टीम क्विक रेस्पांस टीम है। उनको ट्रेनिंग मिलने के बाद स्नेक रेस्क्यू के मामले भी हम अधिक से अधिक लोंगो की मदद कर पाएंगे।
सांप कांटे तो तुंरत आसपास के जगह को बांधे:
जितेंद्र सारथी ने बताया कि यदि किसी को साँप काट ले तो तुरंत काटे वाले जगह के आसपास को कसकर बांध लें और तुरंत हॉस्पिटल ले जाये। कई बार झाड़फूंक के चक्कर में मरीज की जान चली जाती है। उन्होंने डायल 112 की टीम को सांप पकड़ने का डेमो दिया। डेमो के अनुसार स्टॉफ ने साँप पकड़कर अपना झिझक दूर किया। इस मौके पर रक्षित निरीक्षक अनथ राम पैकरा, सूबेदार भुनेश्वर कश्यप एवं सभी स्टाफ भी शामिल हुए।

Share this Article

You cannot copy content of this page